Loading...

WhatsApp: 91-9870153193

support@astrologyforum.net

कन्या राशिफल अप्रैल 2024

हम इस कन्या राशिफल अप्रैल २०२४ (Kanya Rashifal April 2024) में सिर्फ कन्या लगन के जातको के लिए अप्रैल २०२४ कैसा रहेगा सिर्फ उस पर चर्चा करेंगे | अप्रैल के महीने में सूर्य , बुध और शुक्र का बहुत ही महत्वपूर्ण गोचर रहेगा , सूर्य आपकी कुंडली में भाग्य भाव में गोचर करेंगे जिसके कारन ये गोचर आप लोगों के लिये अत्यंत महत्वपूर्ण होगा और इस कन्या राशिफल अप्रैल २०२४ (Kanya Rashifal April 2024) में हम चर्चा करेंगे की इस महत्वपूर्ण राशि परिवर्तन का आप लोगों के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा |

kanya rashi video

हम इस ब्लॉग में सिर्फ कन्या लगन के जातको के लिए अप्रैल २०२४ कैसा रहेगा सिर्फ उस पर चर्चा करेंगे. अप्रैल के महीने में सूर्य और मंगल का बहुत ही महत्वपूर्ण राशि परिवर्तन होगा , और इस ब्लॉग में हम चर्चा करेंगे इन सभी महत्वपूर्ण राशि परिवर्तन का आप लोगों के जीवन पर क्या प्रभाव पडेगायदि आपकी कुंडली के प्रथम भाव में ६ नंबर लिखा और उसके साथ उसी भाव में ला लिखा है तो ये मासिक राशिफल अप्रैल २०२४ आपके लिये है. बाकी सभी लगन क लिये आप मेरे दूसरे ब्लॉग देख सकते हैं |

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 व्यवसाय और करियर ( Kanya Rashifal April 2024 – Career ):
1-14 April :

अप्रैल में सूर्य , राहु और शुक्र की युति कुंडली के सप्तम भाव में हैं मंगल और शनि आपकी कुंडली के ६ भाव में हैं |

आपकी कुंडली के १ भाव में हैं ८ भाव में हैं वर्तमान समय में सूर्य राहु और शुक्र कुंडली के ७ भाव में है , इस समय में ग्रहण दोष कुंडली के ७ भाव में बना हुआ है जिसके कारन इस ग्रहण दोष की दृष्टि कुंडली के लग्न भाव पर रहेगी , ये समय आपके मस्तिष्क में भ्रम की स्थिति उत्पन्न कर सकता है , ये समय आपकी एकाग्रता भांग कर सकता है जिसके कारन आपका मनन अस्थिर हो सकता है और आप एक से अधिक दिशाओं की तरफ आकर्षित हो सकते हैं , ये समय आपको आपकी म्हणत अनुसार जो लाभ मिलना चाहिये उसमें विलम्ब कर सकता है उसमें बाधा उत्पन्न कर सकता है ये समय थोड़ा सावधान रहे | जो जातक बिज़नेस में हैं , पार्टनरशिप बिज़नेस में हैं तनाव बहुत अधिक बढ़ सकता है \

वर्तमान समय में गुरु आपकी कुंडली के ८ भाव में हैं जहाँ से गुरु की दृष्टि कुंडली के १२ भाव में २ भाव पर और कुंडली के ४ भाव पर होगी |

गुरु की दृष्टि कुंडली के १२ भाव पर होने के कारन ये किसी प्रकार के विदेश से सम्बंधित कार्य में स्थिरता ला सकता है , आपको विदेश से सम्बंधित कार्य में सफलता मिलने की संभावना बनेगी गुरु आपकी कुंडली के अष्टम भाव में आपको दीर्घायु प्रदान करता है , इस समय ये आपको आपके माता पिता से दूर लेकर जा सकता है आपकी नौकरी में ट्रांसफर मिल सकती है बिज़नेस सम्बंधित दूर जाना पद सकता है , गुरु का अष्टम भाव में होना ये आपमें किसी प्रकार के शोध में जिज्ञासा बढ़ा सकता है |

यदि आप किसी प्रकार के रिसर्च के कार्य में हैं तो उसमें ये सफलता दिलवा सकता है इस समय आप धार्मिक कार्यों की तरफ आकर्षित हो सकते हैं इस समय आपके मित्रों द्वारा समर्थन प्राप्त होगा और आपके कार्य में भी सहायता प्रदान करेंगे ये समय आपको थोड़ा कंजूस बना सकता है और थोड़ा लालची किस्म का भी बना सकता है इसका आपके स्वास्थ पर क्या प्रभाव पड़ेगा इस पर हम अपने स्वास्थ सम्बंधित सेक्शन में आगे चर्चा करेंगे वर्तमान समय में शनि और मंगल आपकी कुंडली के ६ भाव में , इस भाव में इन दो गृह का होना ये दर्शाता है की ये समय आपके काम काज में बहुत अधिक तनाव बढ़ा सकता है बहुत अधिक वर्कलोड बढ़ सकता है , इस समय आपकी यात्राएं भी बहुत अधिक हो सकती हैं , जो जातक विदेश में किसी प्रकार का कोई अवसर ढूंढ रहे हैं उनके लिये ये समय बहुत अधिक शुभ फल दे सकता है

जो जातक विदेश से सम्बंधित किसी प्रकार का कोई बिज़नेस कर रहे हैं उनके लिये ये समय सकरात्मक रहेगाजो जातक किसी प्रकार के समाज सेवा के कार्य में हैं उनके लिये ये समय अत्यंत शुभ फल दे सकता है आपके काम काज में विकास होगा

१५-२२ अप्रैल का समय :

इस समय सूर्य का गोचर कुंडली के सप्तम भाव से कुंडली के ८ भाव में होगा |

जिसके कारन गुरु और सूर्य की युति कुंडली के ८ भाव में बनेगीइस समय सूर्य जन्म कुंडली के अष्टम भाव में मेष राशि में स्थित है ये समय आपको किसी प्रकार के गुप्त और रहस्यमयी चीज़ों की तरफत आकर्षित कर सकता है यह स्थान करियर संबंधी प्रयासों के माध्यम से पुनर्जन्म और परिवर्तन की प्रबल संभावना को इंगित करता है। सूर्य का अष्तम भाव में होना ऐसे जातकों को अत्यंत शुभ फल दे सकता है जो जातक अनुसंधान जांच और जीवन और मृत्यु के रहस्यों से निपटना , जैसे कि फोरेंसिक मनोचिकित्सा या गुप्त विज्ञान जैसे कार्य में हैं । मेष राशि का प्रभाव इन क्षेत्रों में साहस अग्रणी भावना और चुनौतियों से डटकर निपटने की इच्छा का संचार करता है।

राशिफल ब्लॉक

इसके अलावा अष्टम भाव में मेष राशि में सूर्य विरासत साझेदारी या निवेश के माध्यम से महत्वपूर्ण वित्तीय लाभ की ओर इशारा कर रहा है , जिसका अर्थ ये है की आपके करियर में किसी प्रकार का अकस्मात लाभ मिल सकता है जिसकी कल्पना आपने ना की हो undefined इस समय आप संकट की स्थितियों में नेतृत्व दिखाने की संभावना रखते हैं आपमें आत्मबल बहुत अधिक बढ़ेगा और जीवन के कठिन समय से निपटने की असाधारण क्षमता सूर्य का गोचर आपमें उत्पन्न कर सकता है इस गोचर का आपके स्वस्थ पर क्या प्रभाव पड़ेगा इस पर हम अपने स्वास्थ सम्बंधित सेक्शन में आगे चर्चा करेंगे |

२२-३० अप्रैल का समय

इस समय मंगल का गोचर कुंडली के ७ भाव में होगा |

जिसके करा राहु और मंगल द्वारा अंगार योग का निर्णाम आपकी कुंडली के ७ भाव में होगा इस समय राहु और मंगल जन्म कुंडली के सातवें घर में हैं तो इसका मतलब है कि ये आपको उन लोगों के साथ व्यवहार करने में बहुत सक्रिय और दृढ़ इच्छाशक्ति वाला बना सकता है जिनसे आप निकटता से जुड़े हुए हैं जैसे कि व्यवसाय या विवाह। यह स्थिति रिश्तों को थोड़ा कठिन बना सकती है क्योंकि इससे झगड़े हो सकते हैं या लोगों को बिना सोचे-समझे बहुत जल्दी काम करना पड़ सकता है अर्थात आप जल्दबाजी में किसी भी प्रकार का निर्णय ले सके हैं जिससे मानसिक तनाव बढ़ सकता है ।

यदि आप नौकरी में हैं तो कामकाजी जीवन के लिए यह युति उन नौकरियों में अच्छा प्रदर्शन करवा सकती है जहां दूसरों के साथ काम करना महत्वपूर्ण है। आप भागीदारों के साथ नई परियोजनाएँ या व्यवसाय शुरू करने के लिए उत्साहित महसूस कर सकते हैं। लेकिन आपके लिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण होगा की आप कि कभी-कभी धीमे होकर बात करें आपका उग्र स्वभाव आपके आस पास के लोगों के साथ घर्षण उत्पन्न कर सकता है । इससे उन लोगों के साथ किसी भी बड़ी गलतफहमी या बहस से बचने में मदद मिलेगी जिनके साथ आप काम करते हैं।िस युति का आपकी फॅमिली लाइफ पर क्या प्रभाव पड़ेगा इस पर हम अपने आगे के सेक्शन में चर्चा करेंगे |

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 स्वास्थ्य ( Kanya Rashifal April 2024 – Health ):

अप्रैल के महीने में शनि और मंगल की युति कुंडली के ६ भाव में होगी जिसके कारन मानसिक तनाव नसों में दर्द होना और रिड की हड्डी से सम्बंधित कोई रोग परेशां कर सकता है .सूर्य का गोचर कुंडली के ८ भाव में होने के कारन ये किसी प्रकार का कोई अकस्मात रोग आपको दे सकता है जिन जातको को हृदय से सम्बंधित कोई रोग है कोलेस्ट्रॉल रहता है पेट के नीचले हिस्से से सम्बंधित कोई रोग है उन्हे इस समय अधिक सावधान रहना होगा |

जो महिलाएं गर्भवती है उनके लिये १६ अप्रैल के बाद का समय सकारात्मक समय नहीं है इस समय आपको अपने स्वास्थ का विशेष ध्यान रखना होगा ४-८ अप्रैल का समय आपको नींद आने में समस्या हो सकती है आपको सर में दर्द रह सकता है |

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 फाइनेंस या वित्त ( Kanya Rashifal April 2024 – Finances ):

२२ अप्रैल तक छठे भाव में मंगल और शनि की उपस्थिति ऋणों पर काबू पाने के लिए कठोर प्रयासों का संकेत दे रही है । शनि के कारन आप अपनों कर्जो से मुक्ति पाने में सफल रहेंगे और आपके सेविंग्स में बढ़ोतरी होगी , मंगल के कारन किसी प्रकार का कोई अप्रत्याशित लाभ आपको मिलने की संभावना यहाँ बनती है शुक्र जो आपकी कुंडली के २ भा का स्वामी है इस समय राहु के साथ युति में हैं परन्तु १२ अप्रैल तक का समय आपको किसी प्रकार के भ्रम के कारन खर्चे बहुत अधिक करवा सकता है १२ अप्रैल के बाद का समय आपके वित्त में सुधार होगा और आके वित्त सम्बंधित समस्यांए सुलझती दिखाई देंगी

११-१५ अप्रैल का समय किसी प्रकार के निवेश से बचें अन्यथा मानसिक तनाव बहुत अधिक बढ़ सकता है

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 रोमांस लाइफ ( Kanya Rashifal April 2024 – Love and Romance Life ) :

अप्रैल के महीने में राहु सूर्य बुध शुक्र कुंडली के ७ भाव में रहेंगे जिसके कारन आपकी रोमांस लाइफ पर मिश्रित प्रभाव दाल सकते हैं । सातवें घर में बुध और शुक्र की उपस्थिति रिश्तों में संचार और आकर्षण को बढ़ाती है रोमांटिक जुड़ाव और गहरे संबंधों को बढ़ावा देगी । सातवें घर में प्रेम का ग्रह शुक्र सीधे तौर पर रोमांटिक जीवन को सकारात्मक रूप से प्रभावित करेगा सद्भाव और स्नेह को बढ़ावा देता है।हालाँकि बुध और शुक्र के साथ राहु की युति रिश्तों में भ्रम या अवास्तविक उम्मीदें ला सकती है आपको अपने पार्टनर को लेकर उम्मीदें बढ़ सकती हैं जो एक प्रकार की भ्रम की स्थिति उत्पन्न करेगा जिसके कारन आपके प्रेम जीवन में तकरार बहुत अधिक बढ़ सकती है , ये तकरार १२ अप्रैल तक बहुत अधिक होने की संभावना रहेगी ।

राहु का प्रभाव इच्छाओं को बढ़ाता है लेकिन गलतफहमी या जुनून भी पैदा कर सकता है । जो जातक सिंगल हैं उन्हें ६-९ अप्रैल का समय सकारात्मक समय रहेगा , ये आपके प्रेम जीवन की नयी शुरुआत कर सकता है परिवार: अप्रैल २०२४ के दौरान कन्या लग्न के लिए सातवें घर में राहु बुध और शुक्र और छठे घर में मंगल और शनि के साथ भाई-बहन विवाहित जीवन और माता-पिता के साथ संबंधों सहित पारिवारिक जीवन पर प्रभाव महत्वपूर्ण रहेगा ।सातवें घर में राहु बुध और शुक्र की युति वैवाहिक मामलों पर गहरा प्रभाव डालेगी ये महीना आपके वैवाहिक जीवन में उतार चढ़ाव ला सकता है राहु और शुक्र का ७ भाव में होना और २२ अप्रैल का मंगल का इस युति में शामिल होना किसी प्रकार एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारन घर में कलेश बढ़ा सकता है इस समय गुरु भी आपकी कुंडली के ८ भाव में गोचर में हैं तो थोड़ा संभल कर रहे राहु और सूर्य का सप्तम भाव में होना ये आपके वैवाहिक जीवन में भ्रम की स्थिति उत्पन्न कर सकता है आपके रिश्तो में भ्रम की एक चादर बन सकती है जिसके हटने के साथ ही आपके रिश्तों में दरार भी आ सकती है |

मंगल के आक्रामक प्रभाव के कारण भाई-बहनों के साथ संबंधों में कुछ तनाव आ सकता है, बातचीत में सावधानी बरतने का आग्रह है।

माता-पिता, विशेषकर पिता के साथ संबंधों में धैर्य और समझ की आवश्यकता हो सकती है, क्योंकि शनि की स्थिति कुछ दूरी या ठंडेपन का संकेत दे सकती है। अप्रैल का महीना आपके पिता के साथ सम्बन्धो में तनाव बहुत अधिक बढ़ा सकता है |

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 वस्त्र ( Kanya Rashifal April 2024 – Clothing ) :

अप्रैल के माहिएय में आप लाल पीले और नारंगी रंग के वस्त्र ना धारण करें

कन्या राशिफल अप्रैल 2024 उपाये ( Kanya Rashifal April 2024 – Remedies ) :

  • बरगद के पेड़ की जड़ में आप शनिवार के दिन कच्चा दूध डालें।
  • सूर्यास्त के बाद राहु बीज मंत्र का जाप करें जो है ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः का दैनिक १०८ बार उच्चारण करें
  • आप सूर्यास्त के बाद कुत्तों को रोटी अवशय डालें
  • शनि आपकी कुंडली में ६ भाव में गोचर में हैं आप आपको हर शनिवार काली दाल किसी मजदूर को दान करनी है। इसे २१ शनिवारों तक करना है |
  • जिन जातकों का विवाह नहीं हो पा रहा है उनको ६ अप्रैल और २१ अप्रैल को प्रदोष व्रत करना चाहिये और उस दिन आपको सूर्य उदय से पहले उठकर स्नान करके शिव मंदिर जाना कहहिएय और वहाँ १०८ बार ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करना चाहिये. आप इस दिन शिव चालीसा पढ़े और छोटी कन्याओं को भोजन खिलाएं इससे आपकी मनोकामना पुर्ण होगी और विवाह में आने वाली अड़चनें दूर होंगी.

वैदिक ज्योतिष में भिन्न भिन्न गृह और उनका महत्त्व

Leave a Reply

Company

AstrologyForum.net is a premier destination for individuals seeking to deepen their understanding of astrology and its impact on their lives. Offering a wide range of astrological services, including personalized readings, forecasts, and consultations, this platform caters to both beginners and seasoned enthusiasts. Alongside its services, AstrologyForum.net boasts an extensive collection of eBooks on various astrological topics, providing valuable insights and knowledge to those eager to explore the celestial influences on their personal and professional lives.

Features

Most Recent Posts

  • All Post
  • Astrology
  • Entertainment
  • Horoscope
  • Horóscopo
  • Spirituality
  • Transits
  • Uncategorized
  • Vedic Astrology
  • Zodiac Signs
  • ज्योतिष
  • ज्योतिष विज्ञान
  • राशिफल

Our App

Coming Shortly

Category

Our ebook website brings you the convenience of instant access.

© 2023 astrologyforum.net

X