दसवे भाव मे राहु
दसवे भाव मे राहु , जन्म कुंडली के दसवे भाव मे राहु, जब राहु दशम भाव में, जन्म कुंडली के दसवें घर में राहु के उपाय, जन्म कुंडली के दशम भाव मे राहु के उपाय

दसवे भाव मे राहु

इस ब्लॉग मे हम जानेगे की दसवे भाव मे राहु जातक को क्या परेशानिया देता है या कितना शुभ फल देता है |

आइए पहले समझते हैं कि जन्म कुंडली का दशम भाव क्या दर्शाता है: यह घर जातक के पेशे, कर्म, आजीविका के स्रोत, व्यवसाय, शक्ति, पवित्र और धार्मिक कर्म और कर्तव्यों, घुटने के जोड़ों और घुटने की टोपी का प्रतिनिधित्व करता है

जन्म कुंडली के दसवे भाव मे राहु :

दसवे भाव मे राहु जातक को अपने कार्य मे बहुत उन्नत चाह रखने पर मजबूर करता है और कुछ आधिकारिक स्थिति रखना चाहता है।

जब राहु दशम भाव में उच्च का होता है तो ऐसे जातक अपने जॉब प्रोफाइल में हमेशा उच्चतम स्तर तक पहुंचते हैं जैसे कि वे एचओडी, राजनेता, न्यायाधीश बन जाते हैं। दशम भाव में राहु सामान्यतः स्त्री संतान देता है। पिता और जातक के बीच एक अच्छा रिश्ता कभी नहीं होगा। खुद के घर के बजाय ऐसे जातक हमेशा चौथे घर में केतु के कारण किराये के घरों में रहते हैं। 42 वर्ष की आयु से पहले, इस तरह के जातक विशाल संपत्ति और बड़े साम्राज्य का निर्माण करते हैं। ऐसे जातक को उनके जन्मस्थान में सफलता नहीं मिलेगी। कोई भी ग्रह उस प्रकार की सफलता नहीं दे सकता है जो राहु लाभकारी ग्रहों के साथ रखने / पाने में सक्षम है।

यदि राहु पीड़ित है तो जातक आलसी हो जाएगा, हमेशा नौकरी और दुष्ट स्वभाव का होता है। इस तरह के जातक को बचपन के दौरान विशेष रूप से माँ से देखभाल नहीं मिलेगी। ऐसे जातक के माता-पिता हमेशा बीमारियों से पीड़ित रहते हैं, विशेषकर माँ रोगों से ग्रस्त होती हैं और राहु की महादशा के दौरान ऐसे जातक की माँ की मृत्यु होने की संभावना होती है। प्रभावित राहु कैरियर और वित्त में समस्याएं पैदा करेगा। ऐसा जातक अपने कैरियर / क्षेत्र का चयन नहीं कर पाएगा और ऐसे जातक का दिमाग़ बेचैन रहेगा जिसके कारण वित्त और करियर के मामले में ऐसे जातक जीवन भर पीड़ित रहते हैं। इस तरह के जातक एक अवैध संबंध में शामिल होने की प्रवृत्ति रखते हैं। कार्यस्थल पर छिपे हुए शत्रुओं के कारण ऐसे जातक को समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है और इसके कारण ऐसे जातक को बहुत जल्द ही नौकरी बदलनी पड़ती है जो अस्थिर और बेचैन दिमाग का निर्माण करता है।

जन्म कुंडली के दसवे भाव मे राहु के उपाय:

  1. ऐसे जातक को हमेशा अपना सिर ढंक कर रखना चाहिए।
  2. ऐसे जातक को नेत्रहीन लोगों की मदद करनी चाहिए और उन्हें भोजन, वस्त्र दान करना चाहिए।
  3. ऐसे जातक को भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।
  4. ऐसे जातक को प्रतिदिन 108 बार “ओम नमः शिवाय” मंत्र का जाप करना चाहिए, खासकर राहु महादशा के दौरान।
  5. ऐसे जातक के माता पिता को महादशा के दौरान 108 बार महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए।

Sachin Sharmaa,
For questions : https://astrologyforum.net
For more details visit my website : https://www.astrologerbuddy4u.com
Follow me on twitter at : https://twitter.com/astrobuddy4u
Like my facebook page : https://www.facebook.com/astrobuddy4u/?ref=bookmarks
Follow me in pinterest : https://in.pinterest.com/astrologerbuddyu/
Follow my blogs on : https://astrologerbuddy4u.blog/
Follow me on tumblr : https://www.tumblr.com/blog/astrologerbuddy4u
Follow me on reddit: https://www.reddit.com/user/astrologerbuddy4u
Follow my blogs on : https://www.astrologyblog.astrologerbuddy4u.com/

Leave a Reply