Verification: 0e7ed2dbe8508060
0 votes
12 views
in Vedic Astrology - Education by (36.9k points)

कुंडली के तीसरे भाव में राहु 

1 Answer

0 votes
by (36.9k points)
 
Best answer

तीसरे भाव मे राहु 

इस ब्लॉग मे हम जानेगे की तीसरे  भाव मे राहु   जातक को क्या परेशानिया देता है या कितना शुभ फल देता है |

आइए पहले समझते हैं कि तीसरा घर क्या दर्शाता है: यह घर जातक के साहस और वीरता, शौक, छोटे कोबरों, मृत्यु की विधा, संचार, पड़ोसियों, छोटी यात्रा, कान, गर्दन, कंधे, शारीरिक विकास का प्रतिनिधित्व करता है। आपने देखा होगा कुछ लोग बहुत साहसी होते हैं और किसी भी चीज से नहीं डरते हैं और इसके विपरीत, कुछ बहुत ही डरपोक किस्म के व्यक्तित्व होते हैं। यह घर ऐसे मामलों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

जन्म कुंडली के तीसरे भाव में राहु: यह जन्म कुंडली में राहु के सर्वोत्तम स्थानों में से एक है। इस तरह के जातक साहसी होते हैं और किसी भी परिस्थिति मे आसानी से हार नहीं मानते  । इस तरह के जातक दुस्साहसी होते हैं और अपने विचारों को दूसरों के सामने स्पष्ट रूप से व्यक्त करते हैं। इस तेरह के जातक को वाणी से संबंधित कार्यक्षेत्र मे अधिक लाभ प्राप्त होता है : रेडियो जॉकी, पत्रकारों, मीडिया, विज्ञापन जैसे महत्वपूर्ण हैं। ऐसे जातक महान नेता और महान धार्मिक प्रचारक बनते हैं जो बड़ी संख्या में अनुयायी बना सकते हैं।

राहु महादशा मे ऐसे जातक पैसे के लिए कुछ भी करते है और ऐसे जातको को राहु महादशा मे अधिक धन लाभ प्राप्त होता है अतः राहु महादशा ऐसे जातको को फलदायी होती है | राहु शेयर ट्रेडिंग, वित्तीय परामर्श, इंटीरियर डिजाइनिंग, दवा निर्माण के क्षेत्र में ऐसे जातक प्रेरित करता है  और ऐसे जातक राहु महादशा के दौरान बहुत पैसा कमाते हैं। इस तरह के जातक बहुत अच्छे वार्ताकार होते हैं और जिसके कारण वे सरकारी क्षेत्र में उच्च अधिकार रखने वाले लोगों के साथ बहुत अच्छे संबंध बनाते हैं।

इस तरह के जातक घर मे बड़े भाई के तेरह अपनी ज़िम्मेदारी निभाते है । इस तरह के जातक भी धर्म में विश्वास करते हैं और आम तौर पर कोई भी कार्य नहीं करते हैं जो उनकी आंतरिक आत्मा के लिए स्वीकार्य नहीं है। इस तरह के जातक दूसरों को धोखा नहीं देते हैं और दूसरों की मदद के लिए भी तैयार रहते हैं।

Sachin Sharmaa,

For Mathematics E-books : https://mathstudy.in/

For questions : https://astrologyforum.net

...